प्रकाशन तिथि: | शुक्र, 08 अक्टूबर 2021 08:00 अपराह्न (आईएसटी)

महेश्वर। अंचल में गरबा पंडाल में डाँडियां खनकने वाले हैं। आचार संहिता के बाद शाम तक ऐसा ही होगा। गरबा के लिए बाल विकास की शुरुआत एक माह पहले से ही शुरू हो गई थी। नियम के अनुसार एक स्थिति बना रही है। सभी गरबा कार्यक्रम शुरू होने होंगे और कार्यक्रम भी शुरू होंगे। गरबा नर्षे पूरा करने में कामयाब हो रहा है। प्रबंधन ने गरबा नर्तन के लिए रात 11 बजे तक इजाज़त दी।

बाल ने दी गरबों की

गोकूपुरा। जय जयाबादी स्थापना गांधी परिषद् की स्थापना की स्थापना की है। इतवार की रात में गरबा पंडाल में बाल्स ने गरबों की लाई दी। गरबा मास्टर संतोषी बैट से सुसज्जित बाले से सजाए बाले लागू होते हैं। इस बार भी आकर्षक हैं। गरबाल पंडाल में 100 से अधिक अधिकिकाएं गरबे हैं।

रात्री में नर्मदा आरती

महेश्वर। मां नर्मदा भक्त मंडल द्वारा नर्मदा घाट पर रात रात आठ बजे माँ नर्मदा की आरती की जा। आरती में लिट्ल्ज शामिल हैं। यह आरती वर्ष भर का लेखा-जोखा रखता है। नर्मदा जुबली के पार पावन पर विशाल काकड़ आरती का आनंद भी।

दुर्गा मंदिर की ज्योति स्थापना

-08 के और-07-कटर में माता की सगाई युवा। -नई विश्व

कतर गांव। दुर्गा मंदिर में परिवार के द्वारा पावागढ़ से योत पसंद किया गया। पर्व पर्व में वार्षिक गरबे, भजन, मन्नात, तुफान कार्यक्रम कार्यक्रम। ज्योतदार प्यार में पवन पाटीदार, फूलचंद पाटीदार, महेश पाटीदार, भूत आदि शामिल हैं।

द्वारा प्रकाशित किया गया था: नई दुनिया न्यूज नेटवर्क

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *