भरतपुर। राजस्थान में राज्य की गहलोत सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर वैट कम नहीं किया है और ऐसे में यहां पेट्रोल पड़ोसी राज्यों से 10 रुपये से तक महंगा हो गया। यही वजह है कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा बॉर्डर से सटे भरतपुर जिले में करीब दो दर्जन पेट्रोल पंप बंद होने के कगार पर हैं। दोनों राज्यों के बॉर्डर पर स्थित इन पेट्रोप पंपों पर तेल लेने के बजाय लोग बॉर्डर पार से सस्ता पेट्रोल-डीजल भरवाने लगे हैं और यहां ग्राहकों का टोटा पड़ गया है। अब भरतपुर बॉर्डर के पेट्रोल पंपों पर तेल की बिक्री न होने के कारण अब इन पेट्रोल पंपों पर ताले लग चुके हैं।

भरतपुर की सीमा उत्तर प्रदेश और हरियाणा राज्य से भी लगती हैं। और बॉर्डर पर करीब दो दर्जन पेट्रोल पंप भरतपुर जिले में संचालित हैं। लेकिन यहां उत्तर प्रदेश के बजाय ₹10 डीजल पेट्रोल महंगा होने की वजह से लोग अब यहां के स्थानीय पेट्रोल पंपों से तेल नहीं लेते हैं। जबकि कुछ किलोमीटर चलने के बाद उत्तर प्रदेश के पेट्रोल पंपों से तेल लेकर आने लगे हैं। इसका परिणाम है कि जिले के स्थानीय पेट्रोल पंप जो बॉर्डर पर स्थित है उनके लॉक लग चुके हैं।

बॉर्डर के पेट्रोल पंपों पर कार्यरत सेल्समैन के किशन सिंह अनुसार पहले रोजाना हजारों लीटर डीजल पेट्रोल की बिक्री यहां से होती थी लेकिन जब से पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में डीजल पेट्रोल ₹10 सस्ता हुआ है उसके बाद हमारे सभी पेट्रोल पंप से तेल की बिक्री खत्म हो गई है। घाटा बढ़ता लगता जा रहा है जिसके कारण पेट्रोल पंप पर ताले लगा दिए गए हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *