बाड़मेर. सरकारी विद्यालयों में नवीं-दसवीं में अध्ययनरत बालिकाओं को अब पैदल पंगडंडी नहीं नापनी होगी। सरकार की निशुल्क साइकिल वितरण योजना के तहत जिले की ३५ हजार से ज्यादा बालिकाओं को जल्द ही साइकिलें मिल जाएगी।

कोरोना के चलते पिछले सत्र में साइकिलें वितरित नहीं हुई थी जबकि इस सत्र में भी अब तक साइकिलें नहीं मिली है। अब दोनों सत्र की साइकिलों का वितरण होगा जिसकी तैयारी आरम्भ हो चुकी है। साइकिलें नोडल केन्द्रों तक पहुंची है और तैयार की जा रही है।

प्रदेश में सरकारी स्कू  लों में कक्षा नवमीं में अध्ययनरत बालिकाओं को राज्य सरकार की ओर से निशुल्क साइकिल योजना के तहत साइकिलें दी जाती है। इस योजना से जिले में हर साल पन्द्रह से सत्रह हजार बालिकाओं का साइकिलें मिलती है। इस पर उनको घर से स्कू  ल आने-जाने के लिए पैदल सफर नहीं करना पड़ता है।

पिछले सत्र २०२०-२१ में मार्च२०२० को कोरोना के चलते देश व्यापी लॉकडाउन लगा तो साइकिलों के वितरण पर भी रोक लग गई। इस सत्र में हाल ही में स्कू  लें खुली लेकिन साइकिलें नहीं मिल पाई थी जिस पर कुछ समय से बालिकाएं पैदल स्कू  ल आ-जा रही थी अब निशुल्क साइकिल वितरण योजना के तहत साइकिलें आ गई हैं जो जल्द ही वितरित होंगी।

पैँतीस हजार से ज्यादा बालिकाएं होंगी लाभान्वित- जिले में निशुल्क साइकिल वितरण योजना के तहत ३५ हजार से ज्यादा बालिकाओं को साइकिलें मिलेंगी। शिक्षा सत्र २०२०-२१ में 16997 तथा २०२१-२२ में 18865 कुल 35862 बेटियों को साइकिल योजना का लाभ मिलेगा।

नोडल केन्द्र पर पहुंची साइकिलें- साइकिल वितरण को लेकर शिक्षा विभाग ने कार्रवाई शुरू कर दी है। जिले के समस्त नोडल केन्द्रों तक साइकिलें पहुंचाने का कार्य आरम्भ हो गया है। कई केन्द्रों पर साइकिलें पहुंच चुकी हैं। साइकिलों केकल पुर्जें पहुंचने के बाद अब मिस्त्री मौके पर साइकिल तैयार कर रहे हैं जिसको आगामी दिनों में दिया जाएगा।

जल्द होगा साइकिल वितरण कार्यक्रम– जिले में बालिकाओं को साइकिलों का वितरण जल्द ही किया जाएगा। नोडल केन्द्रों तक साइकिलें पहुंच रही हैं।- जेतमालसिंह राठौड़, एडीईओ माध्यमिक शिक्षा बाड़मेर



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *