हाइलाइट्स

  • बकरीद के दिन नमाज से लौटते वक्त दो पक्षों में भिड़ंत
  • मस्जिद में चप्पल बदलने को लेकर कहासुनी के बाद हिंसा
  • छुरेबाजी और पथराव में पांच लोग हुए घायल, पहुंची पुलिस
  • कंकरखेड़ा इलाके का मामला, किसी पक्ष ने नहीं की शिकायत

मेरठ
मेरठ में ईद-उल-अजहा के दिन हिंसक संघर्ष हो गया। मोहल्ला मुन्नालाल में भैंसा रोड पर मस्जिद से नमाज पढ़कर घर लौट रहे दो पक्षों में चप्पल बदलने के विवाद में खूनी संघर्ष हुआ। इस दौरान चाकूबाजी और पथराव भी किया गया, जिसमें पांच युवक घायल हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को सीएचसी भर्ती कराया। पुलिस ने बताया कि यह पूरा विवाद चप्‍पल बदलने को लेकर हुआ था। तहरीर मिलने के बाद आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं, कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र में प्रतिबंधित पशुओं की कुर्बानी के विरोध में जमकर हंगामा हुआ।

मोहल्ला मुन्नालाल में बुधवार सुबह करीब आठ बजे कॉलोनी के समीप स्थित मस्जिद से ईद की नमाज पढ़कर कुछ युवक घर लौट रहे थे। रास्ते में दो युवकों के बीच मस्जिद में चप्पल बदलने को लेकर कहासुनी हो गई। इसके बाद दोनों पक्षों में जमकर मारपीट शुरू हुई। इस दौरान छुरेबाजी हुई और पथराव भी किया गया। संघर्ष में पांच लोग घायल हो गए। पुलिस का कहना है कि मारपीट की सूचना पर मौके पर टीम पहुंची और घायलों को सीएचसी भिजवाया। इंस्पेक्टर धमेंद्र सिंह राठौर ने बताया कि अभी तक किसी भी पक्ष की ओर से थाने पर तहरीर नहीं दी गई थी। तहरीर मिलने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

ईद पर जानवरों की कुर्बानी की खिलाफत, विरोध में मुस्लिम शख्स ने रखा 72 घंटे का रोजा
प्रतिबंधित पशुओं की कुर्बानी पर हंगामा
कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र के डाबका गांव में बुधवार को ईद पर दो लोगों ने घर में कथित तौर पर प्रतिबंधित पशुओं की कुर्बानी दी। इसकी सूचना पर ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। ग्रामीणों का कहना है कि गांव में कभी भी पशुओं की कुर्बानी नहीं दी गई है। यह पहला मौका है, जब गांव में कुर्बानी दी गई है। मारे गए पशुओं को देखकर ग्रामीणों में रोष हो गया। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस को आता देखकर कुर्बानी करने वाले लोग वहां से भाग गए।


ग्रामीणों ने पुलिस से साफ-साफ कह दिया है कि गांव में प्रतिबंधित कुर्बानी नहीं होने देंगे। पुलिस के आश्वासन पर ग्रामीण शांत हो गए। पुलिस ने मरे अवशेषों को आरोपियों के घर में गड्ढा खुदवाकर दबवा दिया। कंकरखेड़ा इंस्पेक्टर तपेश्वर सागर का कहना है कि ग्रामीणों ने तहरीर दे दी है। तहरीर के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। तनाव को देखते हुए पुलिस कर्मियों की गांव में ही ड्यूटी लगाई गई है।

STABBING

प्रतीकात्मक तस्वीर



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed