हाइलाइट्स:

  • पांच जुलाई को बिहार में दो बड़े राजनीतिक कार्यक्रम
  • आरजेडी का स्थापना दिवस और चिराग की आशीर्वाद यात्रा
  • आरजेडी में शामिल हुए जेडीयू नेता महेश्वर सिंह
  • चिराग पासवान का साथ देंगे हम नेता धीरेंद्र कुमार मुन्ना

पटना
बिहार में दूर-दूर तक चुनाव की कोई उम्मीद नहीं दिख रही मगर नेताओं का पाला बदलने का सिलसिला जारी है। सत्ताधारी पार्टियां ही नहीं बल्कि विपक्षी खेमा भी दूसरी पार्टियों को तोड़ने की फिराक में लगा हुआ है। जेडीयू के पूर्व विधायक महेश्वर सिंह आरजेडी में शामिल हुए तो हम के पूर्व कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष धीरेंद्र कुमार मुन्ना एलजेपी (चिराग गुट) के साथ नई पारी की शुरुआत करेंगे।

आरजेडी में शामिल हुए पूर्व विधायक महेश्वर सिंह
जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) से दो बार विधायक रह चुके महेश्वर सिंह ने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) का दामन थाम लिया। आरजेडी ने दावा किया कि महेश्वर सिंह के आने से पार्टी को ताकत मिली है। वैसे इसकी उम्मीद काफी पहले से की जा रही थी। महेश्वर सिंह ने राज्य विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की उपस्थिति में राजद की प्राथमिक सदस्यता ली। उन्होंने दावा किया कि ‘भारी दबाव’ के बावजूद वह राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से बाहर आ गए हैं।
Bihar News : भाई के गुनाह में डेप्युटी सीएम और मंत्री भागीदार नहीं, लालू की संपत्ति की वजह से कोर्ट का चक्कर लगा रहे तेजस्वी… जानिए
मंजीत सिंह के सवाल पर बचते दिखे तेजस्वी
पूर्वी चंपारण के उनके कई समर्थक भी डिजिटल माध्यम से राजद में शामिल हुए। आरजेडी में स्वागत करते हुए तेजस्वी यादव ने उनके साथ पुराने संबंधों को याद किया जब करीब एक दशक पहले दिवंगत रामविलास पासवान ने लोजपा का गठन किया था तब वो विधानसभा में पार्टी के नेता थे और लालू प्रसाद की पार्टी के साथ उनके संबंध थे। तेजस्वी यादव ने दावा किया कि जदयू और भाजपा के कई नेता उनके संपर्क में हैं लेकिन जेडीयू के पूर्व विधायक मंजीत सिंह के सवाल पर बचते नजर आए। मंजीत सिंह हाल ही में राजद नेता से मिले थे, जिसके बाद उनके पाला बदलने के कयास लगने लगे थे। हालांकि, नीतीश कुमार से बात करने के बाद उन्होंने इन खबरों का खंडन किया।

Bihar Politics : बिहार में उलट-पलट की राजनीति तेज, कोई इधर गया कोई उधर गया
हम पार्टी को धीरेंद्र मुन्ना ने कहा बाय-बाय
वहीं, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के पूर्व कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष धीरेंद्र कुमार मुन्ना ने पार्टी प्रमुख जीतन राम मांझी को पत्र लिखकर जानकारी दी कि वे अब पार्टी के साथ नहीं हैं। उन्होंने मांझी को लिखे पत्र में कहा है कि ‘पिता तुल्य जीतन राम मांझी ने मुझे हमेशा अपना स्नेह दिया है। उनके स्नेह ने मुझे पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता, 2015 में नवादा विधान सभा से प्रत्याशी और हम पार्टी का बिहार प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष बनाया था।’ धीरेंद्र कुमार मुन्ना ने कहा कि ‘मैंने अपना जीवन दलित, पिछड़ों, कमजोर और गरीब लोगों की आवाज बनने में बिताया है और आगे भी ऐसा करना चाहता हूं। बिहार के मौजूदा हालात में बिहार के हक में लड़ाई लड़ते हुए मुझे चिराग पासवान दिख रहे हैं और मैं उनकी लड़ाई में उनके साथ रहना चाहता हूं। ताकि बिहार को फर्स्ट बनाया जा सके। मैं पार्टी के प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया हूं और यह वचन देता हूं कि व्यगतिगत रूप से आप के हर जरूरत में खड़ा रहूंगा।’

5 जुलाई को बिहार में दो बड़े राजनीतिक कार्यक्रम
दरअसल 5 जुलाई को राष्ट्रीय जनता दल का स्थापना दिवस और 5 जुलाई को ही रामविलास पासवान की जयंती भी है। दोनों पार्टियों के नौजवान वारिस (तेजस्वी-चिराग) खुद को बेहतर साबित करना चाहते हैं। इसी वजह से नेताओं के दल-बदल का सिलसिला भी चल रहा है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *