कोटा सम्भाग में डीएपी खाद की कालाबाजारी की शिकायत पर संयुक्त निदेशक कृषि द्वारा गठित टीम ने मंगलवार को खालौती तहसील पीपल्दा में उर्वरक विक्रेताओं व सहकारी समितियों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान विक्रय किए उर्वरक के स्टॉक की जानकारी ली, जिसमें आदान उर्वरक का बेचान मध्यप्रदेश में किया जाना पाया गया।

कोटा. कोटा सम्भाग में डीएपी खाद की कालाबाजारी की शिकायत पर संयुक्त निदेशक कृषि द्वारा गठित टीम ने मंगलवार को खालौती तहसील पीपल्दा में उर्वरक विक्रेताओं व सहकारी समितियों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान विक्रय किए उर्वरक के स्टॉक की जानकारी ली, जिसमें आदान उर्वरक का बेचान मध्यप्रदेश में किया जाना पाया गया। इस पर तीन विक्रेताओं के लाइसेंस निलम्बित कर दिए गए।

संयुक्त निदेशक कृषि डॉ. रामावतार शर्मा ने बताया कि कृषि विभाग के अधिकारी हुक्माराम शर्मा, सहायक निदेशक (पौध संरक्षण) डॉ. तनोज चौधरी, जिला विस्तार अधिकारी सुल्तानपुर कृषि अधिकारी (सामान्य) उमा शंकर शर्मा एल एवं कृषि अधिकारी (सामान्य) सत्यप्रकाश मीणा ने खातौली में मैसर्स शम्भूदयाल मंगल, मैसर्स घनश्याम गोयल एण्ड कम्पनी व मैसर्स गोयल फर्टीलाइजर्स एण्ड केमीकल्स सहित अन्य फर्मो का निरीक्षण कर उर्वरक के स्टॉक की जानकारी ली, जिसमें उपरोक्त फर्मों द्वारा आदान उर्वरक का बेचान समीपवर्ती राज्य मध्यप्रदेश में किया जाना पाया गया। अनियमितता पाए जाने पर जिला विस्तार अधिकारी सुल्तानपुर ने तीनों फर्मों के लाइसेंस 7 दिन के लिए निलम्बित कर दिया गया।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *