हाइलाइट्स

  • भारत ने तैयारी की बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन
  • 2 से 18 साल के बच्चों के लिए पूरी तरह से महफूज है वैक्सीन
  • राज्य सरकारों ने कसी कमर, बिहार स्वास्थ्य विभाग तैयारी में जुटा

पटना
भारत ने बच्चों की कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी उपलब्धि हासिल की है। अब देश में जल्द ही 2 से 18 साल के बच्चों को भी कोविड वैक्सीन लगाई जाएगी। इसको लेकर राज्य सरकारों ने भी कमर कस ली है। राज्य सरकारों ने 2 से 18 साल के बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए ब्लू प्रिंट तैयार कर रहे हैं और कैसे जल्दी से जल्दी बच्चों को वैक्सीनेट किया जाए इसके लिए मंथन कर रहे हैं। बिहार में बच्चों के लिए टीकाकरण अभियान के लिए भी राज्य स्वास्थ्य विभाग भी पूरी तरह से तैयार है।

बच्चों की वैक्सीन के लिए मंजूरी
देश की दवा निंयत्रक संस्था ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने बच्चों की कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। यह भारत बायोटेक और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) की तरफ से निर्मित कोवैक्सिन (Covaxin) ही है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के विशेष सचिव संजय कुमार सिंह ने हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि संबंधित अधिकारियों से इस संबंध में कोई निर्देश और राज्य को टीकों की पर्याप्त खुराक मिलने के बाद बच्चों के लिए टीकाकरण अभियान जल्द ही शुरू हो जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य में 3 करोड़ से अधिक बच्चे हैं और इसलिए टीकाकरण की गति प्राप्त होने वाले टीकों की खुराक पर निर्भर करेगी।

पहली और दूसरी लहर में संक्रमित हुए थे बच्चे
सिंह ने आगे बताया कि कोविड -19 की पहली और दूसरी लहर के दौरान बड़ी संख्या में बच्चे संक्रमित हुए थे लेकिन उनमें से लगभग 70% ने एंटीबॉडी विकसित कर ली थी। एम्स पटना में कोविड-19 के नोडल अधिकारी डॉ संजीव कुमार ने बच्चों पर कोवैक्सिन के उपयोग की अनुमति का स्वागत करते हुए कहा कि उनके अस्पताल में पहले से ही आवश्यक व्यवस्था है और वैक्सीन की डोज उपलब्ध होने के तुरंत बाद टीकाकरण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। उन्होंने कहा कि टीका बच्चों के लिए काफी सुरक्षित और प्रभावी है जैसा कि इसके परीक्षणों के दौरान संकेत दिया गया था।

Covaxin News : 2 से 18 साल के बच्चों के लिए कोवैक्सिन की मंजूरी, दो महीने बाद लगने लगेगी कोरोना की वैक्सीन
तीन चरणों में हुआ परीक्षण
डॉ कुमार ने कहा कि एम्स-पटना में क्लिनिकल परीक्षण के दौरान लगभग 200 बच्चों को तीन अलग-अलग चरणों में ( पहले चरण में 12-18 वर्ष, दूसरे चरण में 6-12 वर्ष और तीसरे चरण में 2-6 वर्ष) परीक्षणों के दौरान बच्चों को टीका लगाया गया था। किसी भी बच्चे की कोई प्रतिकूल रिपोर्ट नहीं आई है। संयुक्त राज्य अमेरिका में 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों को पहले से ही कोविड -19 के खिलाफ टीका लगाया जा रहा है।

बच्चों की वैक्सीन पर सबसे बड़ी खबर: कोवैक्सिन को सरकार ने दी मंजूरी, जानिए हर डीटेल
देश में 40 करोड़ बच्चों को बचाया जा सकेगा- डॉ शाह
प्रसिद्ध बाल रोग विशेषज्ञ डॉ अरुण शाह ने कहा कि देश में 2-18 आयु वर्ग के लगभग 40 करोड़ बच्चों को कोवैक्सिन के उपयोग से कोविड -19 से बचाया जाएगा। उन्होंने कहा कि बच्चों के लिए ZyCoV-D वैक्सीन पहले से मौजूद है, लेकिन इसकी मुफ्त आपूर्ति नहीं की जानी है। सरकार द्वारा अभी कोवैक्सिन की आपूर्ति के लिए नियम और शर्तों की घोषणा की जानी बाकी है, लेकिन उन्हें उम्मीद है कि इसे सरकारी अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रों में बच्चों को मुफ्त में दिया जाएगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed