बालाजी महाराज की नियमित भोग-प्रसादी जारी

मेहंदीपुर बालाजी. धार्मिक स्थल मेहंदीपुर बालाजी में दशहरे पर अधिक भीड़ होने की संभावना तथा कोरोना से बचाव के लिए बुधवार से 17 अक्टूबर तक श्रद्धालुओं के लिए दर्शन बंद कर दिए गए। इसके चलते देश के अनेक प्रांतों से बालाजी महाराज के दर्शनों की आस लिए आए भक्त मंदिर के कपाट बन्द मिलने से मायूस हो गए। वहीं दशहरे मेले के दौरान मंदिर के बंद रहने से कस्बे के व्यापारी भी चिंतित हैं।

गौरतलब है कि मेहंदीपुर बालाजी में हर वर्ष दशहरा महोत्सव का आयोजन होता था, जिसमें लाखों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने आते थे। लगातार दूसरे वर्ष कोरोना संक्रमण की वजह से मंदिर ट्रस्ट ने श्रद्धालुओं के स्वास्थ्य की सुरक्षा की ध्यान में रखते हुए दशहरा महोत्सव रद्द कर बालाजी महाराज के दर्शनों पर रोक लगाई है।

पपलाज माता के दर उमड़ी भीड़, कई किमी लंबा लगा जाम

लालसोट. क्षेत्र के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल पपलाज माता मंदिर पर बुधवार को दुर्गाष्टमी के मौके पर हजारों की भीड़ उमड़ी। इससे जहां कोरोना एडवाइजरी की धज्जियां उड़ती नजर आई, वहीं भीड़ के हिसाब से पुलिस व प्रशासन की ओर से कोई प्रबंध नजर नहीं आए। ऐसे में देश के कई प्रांतों से पहुंचे श्रद्धालुओं को परेशानियों का सामना करना पड़ा। रास्ते में घंटों तक कई किमी लंबे जाम में श्रद्धालु घंटों तक फंसे रहे। कई लोग पैदल ही पहाड़ों में चढ़कर जाम से बचते भी नजर आए।

बुधवार सुबह सात बजे से ही पपलाज माता मंदिर पर श्रद्धालुओंं की भीड़ पहुंचना शुरू हो गई। सुबह दस बजे तक ही मंदिर व आस पास का पूरा इलाका श्रद्धालुओं से अट गया। भीड़ व वाहनों के जमावड़े के चलते मंदिर से पहले ही कई किमी लंबा जाम लग गया। कुटक्या नाके से पूरे घाटी क्षेत्र में सड़क पर जाम रहा। वैकिल्पक मार्ग भी नहीं होने से वाहन चालक फंस गए। गर्मी में लोग प्यास से भी बेहाल हो गए। क्षेत्र के ग्रामीणों ने बताया कि नवरात्रा के दौरान पपलाज माता मंदिर में हजारों लोग उमड़ते हैं, इसके बावजूद प्रशासन कोई व्यवस्था नहीं करता है। पग-पग पर मुश्किलों के बीच माता के दर पर पहुंचकर श्रद्धालुओं ने ढोक लगाई।

मेहंदीपुरा बालाजी मंदिर के कपाट बंद, भक्त नहीं कर सके अपने आराध्य के दर्शन





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed