हाइलाइट्स

  • रेलकर्मी महिला को ब्लैकमेल कर आरोपियों ने लाखों रुपये वसूले
  • ब्लैकमेल करने वालों में दो महिलाएं और एक कथित पत्रकार शामिल
  • रेलकर्मी से दोस्ती की, फिर उसे बदनाम करने और जान लेने की महिलाओं ने दी धमकी
  • पुलिस ने दोनों आरोपी महिलाओं को गिरफ्तार किया

जबलपुर
मध्य प्रदेश में जबलपुर पुलिस ने दो ऐसी महिला आरोपियों को गिरफ्तार किया जिन्होंने रेलवे में काम करने वाली एक महिला के साथ पहले दोस्ती की। फिर उसे बदनाम करने धमकी देकर ब्लैकमेल करने लगी। वे उससे लाकों रुपये वसूल चुकी थीं। इतना ही नहीं, आरोपी महिलाओं ने रेलकर्मी महिला के पति को उसके बारे में अनाप-शनाप बता दिया और वह उसे छोड़कर चला गया। आरोपियों ने ब्लैकमेलिंग का ऐसा जाल बुना जिसमें पीड़ित महिला उलझती ही चली गई। हारकर उसने इस संबंध में एसपी ऑफिस में शिकायत की। एसपी के निर्देश पर पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए दोनों आरोपी महिलाओं को गिरफ्तार किया है।

रेलवे कॉलोनी में रहने वाली एक महिला ने लिखित शिकायत देकर कहा था कि वह रेलवे में अप्रेंटिस के.पी./एम. के पद पर पदस्थ है। उसके पति खेती करते हैं। 2019 की जुलाई में महिला की मित्रता सुमित आम्रवंशी से जुलाई हुई थी। सुमित ने अपनी पत्नी चित्रा आम्रवंशी से मिलवाया था जिसके बाद चित्रा और उसकी दोस्ती हो गई थी

चित्रा और महिला अक्सर साथ में शॉपिंग के लिए भी जाते थे। चित्रा जो भी सामान खरीदती थी, उसका पैसा महिला से दिलवाती थी। थोड़े दिनों तक यह सिलसिला चलने के बाद रेलवेकर्मी महिला को शक होने लगा। दूसरी ओर, चित्रा उससे हमेशा पैसों की मांग करती थी। एक दिन चित्रा ने उससे तीन लाख रुपये की मांग की तो उसने साफ मना कर दिया।

जवाब में चित्रा रेलवे कर्मी महिला क चरित्र पर लांछन लगाने लगी। इतना ही नहीं, दिसम्बर 2020 में चित्रा कॉलोनी में रहने वाली एक महिला रानी द्विवेदी को लेकर उसके घर आई। वह रेलकर्मी महिला को नीचे ले गई और उसके साथ मारपीट की। इस दौरान उसने किसी से अपने फोन से रिकॉर्डिंग भी करवाई थी। रानी द्विवेदी ने उसे नौकरी खा जाने और और बदनाम करने की धमकी दी। रानी ने उसे जान की धमकी भी दी।

MP Bye-Election 2021: उपचुनाव में कांग्रेस को राहत, जोबट में बागी प्रत्याशी ने वापस लिया नामांकन
चित्रा और रानी की धमकी से रेलकर्मी महिला डर गई। उसने पुलिस में शिकायत करने के बजाय उनसे समझौता कर लिया। एक बार फिर चित्रा और रानी का उसके घर आना-जाना शुरू हो गया। वे कभी भी आ जातीं और 5-10 हजार रुपये लेकर चली जाती। बदनाम करने की धमकी देकर उन्होंने रेलकर्मी महिला का एटीएम उससे ले लिया और अलग-अलग तारीखों में 3 लाख रुपये उसके खाते से निकाल लिए।

चित्रा और रानी ने इसके बाद भी उसका पीछा नहीं छोड़ा। उन्होंने रेलकर्मी के पति को उसके बारे में अनाप-शनाप बताकर उसके कान भर दिया। महिला का पति उनकी बातों में आ गया और महिला को छोड़कर चला गया। वह अपने दोनों बच्चों के साथ सतना में रहने लगा।

हर 15 दिन पर मेडिकल चेकअप, 24 घंटे पुलिस सुरक्षा और मेंटेनेंस का सालाना खर्च 15 लाख रुपये, ये है एमपी का हाई प्रोफाइल पेड़

हद तो तब हो गई जब 5 अक्टूबर को उसके मोबाइल पर एक कॉल आया। विकास द्विवेदी नाम के एक शख्स ने खुद को पत्रकार और रानी द्विवेदी का रिश्तेदार बताया। उसने भी महिला से पैसे मांगे। पैसे नहीं देने पर डीआरएम के पास उसकी शिकायत करने और नौकरी से निकलवाने की धमकी दी। महिला जब भी अपनी ड्यूटी पूरी कर घर लौटती, रानी ओैर चित्रा उसका रास्ता रोककर 10 लाख रुपये की मांग करती।

कांग्रेस के ‘डर’ से चुनावी राजनीति में आई थीं राजमाता विजयाराजे सिंधिया, फिर उसी के लिए चुनौती बन गईं
महिला को अब पूरी तरह पता चल चुका था कि उसे ब्लैकमेल किया जा रहा है। उसने चित्रा के पति सुमित को इसकी जानकारी दी, लेकिन सुमित ने हाथ कड़े कर दिए। हारकर पीड़ित महिला ने एसपी के पास शिकायत की। एसपी ने उसकी शिकायत पर तत्काल कार्रवाई करने के लिए निर्देश दिए। महिला थाना में मामला दर्ज करने के बाद पुलिस ने चित्रा आम्रवंशी और रानी को गिरफ्तार कर लिया है। फरार विकास द्विवेदी की तलाश जारी है।

Sadhvi Pragya Video: गरबा की धुन पर सांसद के ठुमके, महिलाओं के साथ जमकर नाची साध्वी प्रज्ञा



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed