सुमित शर्मा, कानपुर
यूपी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कानपुर में पहली जनसभा को संबोधित किया। ओवैसी ने कहा कि इस बार यूपी में योगी और मोदी को हराएंगे। कोरोना की दूसरी लहर में लोगों को ऑक्सिजन नहीं मिली थी। आप सभी वादा करें कि अब कि बार बीजेपी को ऑक्सिजन नहीं देंगे। वहीं, सीएए आंदोलन में मारे गए कानपुर के 3 लोगों को असदुद्दीन ओवैसी ने शहीद बताया।

आवैसी रविवार को जाजमऊ के अकील कपाउंड में जनसभा को संबोधित करने के लिए पहुंचे। औवैसी ने कहा कि यूपी की सियासत में अब कि मुसलमान बड़ी भूमिका अदा करेगा। बड़ी तादाद में आपका होना, सियासी पार्टियों को संदेश देगा। जिसके पास ताकत है, विधायक है, उसी की सुनी जाती है।

अब कि हम जम्हूरियत का बाजा बजाएंगे
भारत में मुसलमान को बैंड वाले से ज्यादा नहीं समझा जाता है। चुनावों में मुसलमानों की हैसियत बैंड बजाने वालों जैसी रह गई है। आज ये फैसला कर लें कि दूल्हे के लिए बैंड बजाएंगे क्या?? अब कि हम जम्हूरियत का बाजा बजाएंगे। यूपी की सियासत में जिस किसी समाज का नेता है तो उसी का सम्मान है। 19 फीसदी मुसलमान का नेता यूपी में कोई नहीं है। मेरी मरने से पहले ख्वाहिश है कि यूपी में 100 मुस्लिम नेता हों।

इस बार खुद के लिए वोट करें
मुझे शिकायत गैरों से नहीं अपनों से है। मेरी आज की रैली के बाद ये सेकुलर लोग कहेंगे कि ओवैसी मुसलमानों को तोड़ने आया है। क्या आप एसपी, बीएसपी, कांग्रेस, बीजेपी को वोट देंगे। इस बार आप खुद को वोट देंगे। आज शाम से टीवी पर हमारा निकाह शुरू कर देंगे और कहेंगे कि ओवैसी ने एक और भड़काऊ भाषण दिया। जब पहले के चुनावों में मुसलमानों ने बीजेपी को वोट नहीं दिया तो ये कैसे जीते। ये दल्ले मेरे सामने नहीं टिक सकते हैं। 2014 और 2019 में मोदी को महज 6 फीसदी मुसलमानों ने वोट दिया तो कैसे मोदी जीते?

हर समाज के पास है अपना लीडर
अखिलेश यादव के घर के तीन सदस्य हारे, राहुल गांधी अमेठी से हार गए, क्योंकि हिंदुओं ने उन्हें वोट नहीं दिया और ये कहते हैं कि हम विजिटर हैं। 71 फीसदी हिंदुओं ने 2019 में मोदी को वोट दिया। राहुल गांधी वायनाड से इसलिए जीते, क्योंकि उनको मुस्लिमों ने वोट दिया। हर समाज के पास अपना लीडर है। जब सदन में कानून बनाया जा रहा था तो मैंने अमित शाह के सामने कानून को फाड़ दिया। 2017 को एसपी, कांग्रेस एक हो गए तो गाना बना कि यूपी को ये लड़के पसंद हैं, लेकिन हार गए।

मौलाना कलीम सिद्दिकी की गिरफ्तारी पर सपा, कांग्रेस क्यों नहीं बोली
ओवैसी ने कहा कि मौलाना कलीम सिद्दिकी को गिरफ्तार किया तो एसपी, कांग्रेस ने कुछ नहीं बोला। उन्होंने सोचा कि बोलेंगे तो दूसरे का वोट नहीं मिलेगा। मौलाना कलीम के वकील ने मुझसे कहा कि केस में दम नहीं है। योगी सरकार सता रही है। बाबरी मस्जिद का फैसला आया कि मैंने कहा कि ये गलत फैसला है, लेकिन कांग्रेस एसपी ने क्यों खिलाफत नहीं की। कानपुर में रईस को गोली मार दी। आफताब आलम के सीने में गोली लगी, मोहम्मद सैफ को गोली मार दी गई। आप अपने वोटों का सौदा मत होने दीजिए। टीवी वाले कुछ बोलें, लेकिन मैं अतीक और परिवार को टिकट दूंगा।

UP Election 2022: ओवैसी को मिला अतीक का साथ, इन जिलों में बदल सकते हैं राजनीतिक समीकरण
गंगा में लाशे तैरती दिखीं
कानपुर में चमड़े के कारोबार को खत्म कर दिया गया। कुंभ मेले के लिए चमड़ा फैक्ट्रियों को बंद कर दिया गया। दलित, मुस्लिमों को रोजगार से वंचित कर दिया। योगी सरकार नाकाम साबित हुई। गैसे सिलिंडर का दाम बढ़ा दिया। पेट्रोल डीजल के दाम बढ़े, गंगा में लाशें तैर रही थी, गंगा किनारे कुत्ते लाशें नोंच रहे थे। बीजेपी जातीय जनगणना नहीं करवाना चाहती। ओबीसी भी इस बार वोट की अहमियत समझे।

असदुद्दीन ओवैसी के विवादित बोल- ये दल्ले मेरे सामने नहीं टिक सकते

असदुद्दीन ओवैसी के विवादित बोल- ये दल्ले मेरे सामने नहीं टिक सकते



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *