कोटा. दशहरा मैदान में विजयादशमी पर 15 अक्टूबर को प्रतीकात्मक रूप से रावण दहन किया जाएगा। शहर के अन्य क्षेत्रों में भी विभिन्न संस्थाओं की ओर से रावण के पुतलों का दहन किया जाएगा, लेकिन कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए 10 से 15 फीट ऊंचाई के पुतलों का दहन किया जाएगा।

 

कोटा. दशहरा मैदान में विजयादशमी पर प्रतीकात्मक रूप से रावण दहन किया जाएगा। शहर के अन्य क्षेत्रों में भी विभिन्न संस्थाओं की ओर से रावण के पुतलों का दहन किया जाएगा, लेकिन कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए 10 से 15 फीट ऊंचाई के पुतलों का दहन किया जाएगा।

आकार लेने लगा दशानन

दशहरा मैदान में 15 फीट के रावण व 10-10 फीट के मेघनाद व कुंभकर्ण के पुतलों का दहन किया जाएगा। फतेहपुर सीकरी के नईम अहमद पिछले दिनों से पुतले बनाने में लगे हैं। पुतलों को रूप दिया जा रहा है। नईम ने बताया कि गत माह 25 सितम्बर को आ गए थे। इस बार काफी छोटे पुतले हैं। फिर भी अच्छा बनाने का प्रयास कर रहे हैं। हमेशा 30-35 लोग रावण बनाने आते हैं।

छोटा हुआ कुटुम्ब

स्टेशन क्षेत्र में शिव मंदिर विकास समिति की ओर से रेलवे वर्कशॉप कॉलोनी में रावण के पुतले का दहन किया जाएगा। समिति की ओर से प्रतापभान सिंह ने बताया कि इस वर्ष 15 फीट के रावण के पुतले का दहन किया जाएगा। मेघनाद व कुंभकर्ण के पुतले नहीं बनाए जा रहे हैं। दशहरे पर शाम 7 बजे पुतले का दहन किया जाएगा।

नए कोटा क्षेत्र में श्रीनाथपुरम क्षेत्र में भागीरथ जन सेवा संस्थान की ओर से भी प्रतीकात्मक रूप से पुतले का दहन किया जाएगा। सचिव जितेन्द्र सेन ने बताया कि 10 फीट का रावण बनाया जाएगा। मेघनाद व कुंभकर्ण के पुतले नहीं बनाए जाएंगे।

कोरोना से घटा रावण का कद

कोरोना संक्रमण के खतरे ने रावण मेघनाद व कुंभकर्ण के पुतलों के आकार को छोटा कर दिया है। इस बार 5 से 6 लोग ही पुतलों को तैयार कर रहे हैं। 2018 में 102 फीट का रावण बनाया था। अब इसकी एक चौथाई भी ऊंचाई नहीं रही है। स्टेशन में दो वर्ष पहले 72 फीट तथा श्रीनाथपुरम में 65 फीट के रावण के पुतले का दहन किया गया था।











Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *