मनीष सिंह, मिर्जापुर
अगर आप पहाड़ों और झरनों के शौकीन हैं और प्रकृति की गोद मे सुकून के पल गुजारना चाहते हैं, लेकिन बजट साथ नहीं दे रहा है तो आप यूपी के मिर्जापुर आइए। यहां आपको धार्मिक औप प्राकृतिक सौंदर्य के साथ इतिहास को भी जानने का मौका मिलेगा।

लाखों लोग आते हैं प्रतिवर्ष
प्रयागराज और भोले की नगरी काशी के बीच गंगा नदी के किनारे विंध्य पर्वत की गोद में बसा मिर्जापुर धार्मिक, प्राकृतिक और इतिहास अपने में संजोए हुए है। शायद यही कारण है कि लोग अब प्रयाग, काशी के दर्शन करने के बाद यहां आना नहीं भूलते। हालांकि, अभी यह इलाका पर्यटन के रूप में विकसित नहीं हुआ है।

प्रकृति ने नवाजा है अपने सौंदर्य से
बारिश के मौसम में मिर्जापुर का सौंदर्य देखते ही बनता है। यहां के पिकनिक स्पॉट गुलजार हो जाते हैं। लोग अपने परिवार और दोस्तों के साथ यहां पिकनिक मनाने आते हैं। विंढम फाल, लखनिया दरी, चूनादरी, देवदरी, सिरसी फाल, टांडा फाल, कुशियरा फाल आदि प्रमुख स्थल हैं, जहां लोग जाना नहीं भूलते हैं। हालांकि, यहां शासन और प्रशासन की तरफ से कोई खास व्यवस्था नहीं है, लेकिन प्रकृति के गोद में कुछ पल बिताना चाहते हैं तो यह जगह काफी मुफीद है।

पुलिस ने कांग्रेसियों को किया नजरबंद, अजय लल्लू बोले- भारतीय जासूस पार्टी है बीजेपी
जरूरत है पर्यटन के रूप में विकसित हो क्षेत्र
पत्रकार सुरेश सिंह कहते हैं कि जिले को प्रकृति ने अपने सौंदर्य से नवाजा है। बस जरूरत है, इसे पर्यटन के रूप में विकसित करने की। जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग यहां आएं। बाहरी लोग आएंगे तो जिले के रहने वाले लोगों को रोजगार भी मिलने लगेगा। सुरेश ने कहा कि योगी सरकार की तरफ से विंध्यधाम में विंध्य कॉरिडोर का निर्माण कार्य चल भी रहा है। आने वाले समय में यह धाम भव्य बनेगा और यहां आने वाले लोग रोपवे का भी मजा ले सकेंगें।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *