भारतमाला परियोजना के तहत बन रहे उच्च मार्ग के निर्माण में अवैध रूप से खोदी गई मिट्टी का भी उपयोग हो रहा है। केशवरायपाटन की विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने यह मुद्दा उठाया है। उन्होंने कहा, ओवरलोड वाहन चलने के कारण पहले से बनी सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं, इन्हें ठीक कराया जाना चाहिए।

 

कोटा. भारतमाला परियोजना के तहत बनाए जा रहे 8 लेन एक्सप्रेस-वे के निर्माण के दौरान पहले से बनी ग्रामीण क्षेत्र की सड़कों को क्षतिग्रस्त करने और मिट्टी के अवैध खनन को लेकर विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने नाराजगी जताई है। उन्होंने शुक्रवार को कोटा में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ हुई बैठक में कहा, एक्सप्रेस-वे के निर्माण के दौरान संवेदक फर्म ने पुरानी सड़कों को क्षतिग्रस्त कर दिया है। बूंदी जिले में सार्वजनिक निर्माण विभाग की करीब 14 सड़कों पर ओवलोडिंग वाहन चलाकर उन्हें खत्म कर दिया है। पुलिस में विभाग ने इसको लेकर शिकायत भी दी है, लेकिन अभी तक एफआईआर दर्ज नहीं हुई है। मेघवाल ने कहा, मनचाही जगह से मिट्टी की खुदाई की जा रही है। गांवों के चारागाह तक खोद दिए। ऐसा लगता है कि कोटा और बंूदी के कलक्टरों की भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। लाडपुरा की विधायक कल्पना देवी ने कहा, कोई गरीब कहीं से बजरी निकाल लेता है तो जेसीबी से उसकी नाव तोड़ देते हैं और एक्सपे्रस-वे के लिए कहीं से भी मिट्टी की खुदाई की जा रही है। जिस जगह की एसटीपी जारी नहीं हुई वहां से भी मिट्टी लाई जा रही है, लेकिन उन पर कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। इसके अलावा योजना में आने के कारण जिन ग्रामीणों के घर तोड़े जा रहे हैं उन्हें बहुत कम मुआवजा दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना की सहायता के बराबर भी राशि नहीं दी जा रही है। आखिर वे कहां रहेंगे, उनकी कौन सुनेगा।






Show More











Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed