संदिप कुमार , मुजफ्फरपुर
मुजफ्फरपुर में बढ़ती गर्मी और उमस के बीच चमकी बुखार के मामले एक बार फिर बढ़ने लगे हैं। चमकी बुखार से पीड़ित कई बच्चों को पिछले कुछ दिनों में मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एसकेएमसीएच) में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है। गुरुवार को तीन और चमकी बुखार के लक्षण वाले बच्चों में AES की पुष्टि हुई है। यह बच्चे मुजफ्फरपुर और वैशाली के है।


ताजा अपडेट के अनुसार, एसकेएमसीएच में चमकी बुखार से पीड़ित 8 बच्चे भर्ती हैं, जिसमें से 7 बच्चों में AES की पुष्टि हो चुकी है। वहीं एक AES संदिग्ध बच्चा भी अस्पताल में भर्ती है। सभी बच्चों का इलाज चल रहा है। सिविल सर्जन डॉ विनय कुमार ने बताया कि इस साल अभी तक चमकी बुखार के लक्षण वाले 50 बच्चों में AES पुष्टि हो चुकी है। जिसमें से 10 बच्चों की मौत भी हो चुकी है और कई बच्चे ठीक होकर घर जा चुके है।

बिहार में चमकी बुखार ने ली 10वीं जान, मुजफ्फरपुर के पारू में सबसे ज्यादा कहर

‘बारिश होने की वजह से चमकी बुखार के मामलों में कमी आने की उम्मीद’
एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ बीएस झा के अनुसार, अस्पताल में एईएस के 7 पुष्ट और 1 संदिग्ध मामला है। डॉक्टर झा के मुताबिक, बढ़े तापमान, आर्द्रता और कुपोषण के कारण क्षेत्र में चमकी बुखार के मामलों में अचानक बढ़ोतरी हुई है। झा ने उम्मीद जताते हुए कहा कि रविवार को हुई भारी बारिश के कारण हमें उम्मीद है कि मामलों में काफी कमी आएगी।

‘ऑक्सिजन के अभाव में एक भी मौत नहीं’ पर घिरे केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया और डॉ भारती परवीन पवार, मुजफ्फरपुर में परिवाद दायर

अबतक 10 बच्चों की चमकी बुखार से मौत
अधिकारियों के मुताबिक, इस साल जनवरी से अब तक एसकेएमसीएच में एईएस के 50 मामले सामने आए हैं। इनमें से 10 की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। पीड़ित मुजफ्फरपुर, वैशाली, शिवहर, पूर्वी चंपारण और पश्चिमी चंपारण जिले के रहने वाले थे।

अस्पताल में भर्ती बच्चे



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *