हाइलाइट्स:

  • जबलपुर के सिविल लाइन थाने में NSUI नेताओं की गुंडई
  • NSUI नेताओं ने थाने में पूर्व कार्यकर्ता की पिटाई की
  • पुलिसकर्मियों ने मार खा रहे कार्यकर्ता को बचाया
  • पिटाई खाने वाले कार्यकर्ता की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज किया

जबलपुर
शहर के सिविल लाइन थाना परिसर में एनएसयूआई के नेताओं की गुंडई का वीडियो सामने आया है। वसूली का आरोप लगाकर एनएसयूआई जबलपुर जिलाध्यक्ष एक पूर्व कार्यकर्ता को पीट रहा है। वह लात-घूंसों से पूर्व कार्यकर्ता की पिटाई कर रहा है। साथ ही उसके साथ गाली-गलौज कर रहा है। इस बीच पुलिस के लोग आकर बचाव करते हैं। पिटाई का वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल है।

युवक की पिटाई के मामले में पुलिस ने एनएसयूआई की जिला अध्यक्ष विजय रजक, देवेंद्र काछी और शुभांशु कनोजिया के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर लिया है। बताया जाता है कि सोमवार को अंशुल सिंह राजपूत भारतीय युवा कांग्रेस के शुभम बोहित के साथ सिविल लाइन थाने में एक ज्ञापन देने आये थे। ज्ञापन देने के बाद थाना परिसर में एनएसयूआई के जिला अध्यक्ष विजय रजक अपने साथी देवेंद्र काछी और शुभांशु कनौजिया के साथ आया।

साध्वी प्रज्ञा की मांग, भोपाल में लाल घाटी का इतिहास काफी विभत्स, बदला जाए इसका नाम
इस दौरान विजय रजक, अंशुल से जिला महासचिव के पद से पूर्व में ही निष्काषित कर दिए जाने की बात करने लगे और गाली गलौज करते हुए मारपीट शुरू कर दी। थाने में मौजूद पुलिस कर्मियों की तत्परता से पीड़ित अंशुल को बचाया गया और उसे सुरक्षित थाने में ले गए। अंशुल सिंह राजपूत ने इस घटना की शिकायत सिविल लाइन थाने में भी दर्ज कराई है।

शिवराज के नए ओएसडी पर क्यों चुटकी ले रही कांग्रेस… पीएम मोदी से इनके पुराने ट्वीट का क्या है कनेक्शन
पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर विजय रजक और उसके साथियों के खिलाफ मामला पंजीबद्ध कर लिया है। इधर एनएसयूआई नेता का कहना है कि अंशुल राजपूत को 2019 में एनएसयूआई के महासचिव पद से हटा दिया गया था लेकिन को अभी भी शासकीय ऑफिस में जाकर ज्ञापन देकर अधिकारियों पर दबाव बनाता था। एनएसयूआई को इसकी शिकायत लगातार मिल रही थी।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *