पत्रिका न्यूज नेटवर्क
नागौर. आईपीएल क्रिकेट पर ऑनलाइन सट्टा लगाने वाले एक शातिर को कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उसके दो साथी फरार हो गए। उसके पास से आधा दर्जन मोबाइल, लेपटॉप और लाखों का हिसाब-किताब मिला है। गिरफ्तार आरोपी रिमाण्ड पर है।

आईपीएल क्रिकेट पर ऑनलाइन सट्टा लगाते एक गिरफ्तार

-दो साथी फरार, लाखों का हिसाब-किताब मिला

पुलिस को काफी दिनों से शहर में ऑऩलाइन सट्टेबाजी की खबर मुखबिर से मिल रही थी। नागौर एसपी अभिजीत सिंह के निर्देश पर एएसपी राजेश मीना और नागौर सीओ विनोद कुमार सीपा के सुपरविजन में कोतवाली सीआई बृजेंद्र सिंह ने मय टीम मंगलवार को बच्चाखाड़ा में एक मकान पर दबिश दी। यहां सट्टा लगाते हुए अकरम खां (33) को गिरफ्तार किया, जबकि उसके साथी इकबाल और अलताफ भाग छूटे। अकरम के कब्जे से आधा दर्जन मोबाइल, लेपटॉप और एक प्लास्टिक बॉक्स जब्त किया। उसके लेपटाप से लाखों का हिसाब मिला है। बताया जाता है कि अकरम अपने साथियों के साथ लंबे समय से इस काम में लगा हुआ था। एक अन्य गैंग भी सट्टे के खेल में लगी हुई है। शहर ही नहीं अन्य जगह भी इनके लोग हैं जो कमीशन के लिए काम करते हैं। पुलिस टीम में एसआई बनवारी लाल, हैड कांस्टेबल शिवराम आदि शामिल थे।
एजेंट के साथ बुकी भी

अकरम खां एजेंट के साथ बुकी भी है। सट्टे में कोडवर्ड का इस्तेमाल इतने तरीके से करता है कि पुलिस उसके धंधे के सूत्र को समझ न सके। ये इसमें काफी एक्सपर्ट है। दरअसल ग्राहक उपलब्ध कराने की ड्यूटी इसके अन्य साथियों की है। बतौर कमीशन आईपीएल में कई लोग इससे जुड़े हुए हैं। पुलिस उनकी भी तलाश कर रही है। बताया जाता है कि सट्टा लगाने वाले दो शब्द उखाया और लगाया का इस्तेमाल करते हैं। यानी किसी टीम को फेवरेट माना जाता है तो उस पर लगे दाव को लगाया कहते हैं। ऐसे में दूसरी टीम पर दाव लगाना हो तो उसे खाया कहते हैं। मैच की पहली गेंद से लेकर टीम की जीत तक भाव चढ़ते-उतरते हैं। एक लाख को एक पैसा, 50 हजार को अठन्नी, 25 हजार को चवन्नी कहा जाता हैं। जीत तक भाव चढ़ते-उतरते हैं। अगर किसी ने दाव लगा दिया और वह कम करना चाहता है, तो इसी कोड में बात करनी पड़ती है। गौरतलब है कि करीब साढ़े चार महीने पहले चेनार के तत्कालीन सरपंच बल्लू उर्फ योगेन्द्र सोलंकी और उसके साथी पंकज को भी सट्टेबाजी में पकड़ा गया था।









Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *