हाइलाइट्स:

  • राजस्थान में बढ़ते संक्रमण को लेकर सीएम गहलोत चिंतित
  • इंटक के स्थापना दिवस पर आयोजित वर्चुअल समारोह में रखी बात
  • ऑक्सीजन और दवाईयों की स्थिति पर भी रखे विचार

जयपुर
राजस्थान में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। लिहाजा दवाईयों से लेकर ऑक्सीजन की किल्लत से प्रदेशवासी जूझ रहे हैं। वहीं सरकार और प्रशासन स्थितियों को देखकर चिंतित है। इसकी बानगी सोमवार को भी देखने को मिली। दरअसल सीएम गहलोत कांग्रेस के मजदूर संगठन इंटक के स्थापना दिवस पर आयोजित वर्चुअल समारोह में अपनी बात कर रहे थे। इस दौरान जहां उन्होंने कोरोना संक्रमण को लेकर चिंता जताई। वहीं ऑक्सीजन ऑपूर्ति को लेकर भी अपने स्थितियां साफ की। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर में हालात भयावह होते जा रहे हैं।

Rajasthan news : नहीं होगी रेमेडीसीवर – ऑक्सीजन की किल्लत!, केंद्र सरकार के इस फैसले ने कर दिया इंतजाम

टैंकरों के लिए देश के गृहमंत्री से करनी पड़ रही है बात
उन्होंने आगे कहा कि ऑक्सीजन की मांग इतनी हो गई है कि हम केंद्र से इसकी भीख मांग रहे हैं। मैंने आज ही अमित शाह से बात की है। मैंने अजीत डोभाल, पीएम के प्रमुख सचिव मिस्टर मिश्र से लेकर किसी को नहीं छोड़ा। सबसे ऑक्सीजन और दवाओं के लिए बात की है। कई लोगों से रोज बात कर रहा हूं। हम ऑक्सीजन और दवाओं के साथ केंद्र से क्रायोजेनिक टैंकर की भीख मांग रहे हैं। आज अमित शाह ने कहा कि राजस्थान को 5 टैंकर अलॉट कर रहा हूं। अब आप हालात का अंदाजा लगा सकते हैं। देश में 5 ऑक्सीजन टैंकर के लिए भी केंद्रीय गृह मंत्री से बात करनी पड़ रही है , इस स्तर पर टैंकर अलॉट हो रहे हैं।

बचना है तो संभल जाओ…
सीएम गहलोत ने कार्यक्रम में कर्नाटक के सरकारी अस्पताल में ऑक्सीजन बंद होने से 24 लोगों की मौत हो जाने की घटना पर दुख जताया। गहलोत ने आगे कहा कि हम तो चिंता कर रहे हैं कि राजस्थान को कैसे बचाएं। हम सबको मिलकर काम करना है। हमने 15 दिन का लॉकडाउन लगाया है। इसे नाम अब दूसरा दिया है, लेकिन इसे लॉकडाउन ही समझिए। आज ही हमने कड़वा विज्ञापन दिया है ताकि लोग समझ जाएं। बचना है तो संभल जाओ। ऐसे बिहेव करो जैसे कोरोना लॉकडाउन हो।

राजस्थान उपचुनाव : 56 साल में पहली बार चला सिपैंथीकार्ड , दिवंगत नेताओं के परिवारजन ने रचा इतिहास

अकेली सरकार कुछ नहीं कर सकती
गहलोत ने कहा कि हम राजस्थान में कोरोना के आंकड़े छिपाते नहीं हैं। कई राज्य छिपाते होंगे। मैंने कल पुलिस से फ्लैग मार्च करवाया ताकि लोगों को पता लगे कि हालात क्या हैं। लोगों को अब सचेत होना होगा और लॉकडाउन की तरह बर्ताव करके सहयोग करना होगा, तभी हालात नियंत्रण में आएंगे। अकेली सरकार कुछ नहीं कर सकती। हमारी ओर से हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। प्रदेश में स्थितियों से अवगत करवाने के लिए हमनें अपने तीन मंत्रियों को दिल्ली भेजा था, वो वहां सबसे मिलकर आएं, ऑक्सीजन और दवाईयों की कमी से अवगत करवाया । सरकार अपने स्तर पर काम कर रही है, लेकिन अब जनता को ज्यादा सावधान होने की जरूरत है।

जोधपुर : वेवजह घर से बाहर निकले, तो होगा ये हाल, भरोसा ना हो तो ये वीडियो देखें



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *