प्रमोद तिवारी, भीलवाड़ा

राजस्‍थान में भीलवाड़ा जिले के मुंडेती गांव में एक महिला की सरेआम लाठियों से पिताई की गई। यह पिटाई महज इसलिए पिटाई क्‍योंकि उसके भाई नहीं है और वह खुद पिता की जमीन-खेत की रखवाली करती है। पिता के पास ही रहती है और उनके साथ खेती करती है। लेकिन यह पिता के करीबी रिश्तेदारों को मंजूर नहीं है। यही कारण था कि जब महिला अपने पिता के खेत पर रखवाली करने पहुंची तो उसे दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया।

बेरहमी से लगभग दो घंटे तक लाठियों से महिला की पिटाई को तामशबीन लोग देखते रहे। लेकिन उसकी किसी ने मदद नहीं की। महिला के बेटे ने अपनी मां की पिटाई का वीडियो मोबाइल में रिकॉर्ड कर लिया। यही वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।
राजस्थान : करणी सेना के दो गुट हुए एकजुट, क्या ‘महाराणा प्रताप – उपचुनाव’ है इसकी वजह?
लाठियों से परिजनों की पिटाई से घायल महिला को भीलवाड़ा के राजकीय महात्‍मा गांधी चिकित्‍सालय में भर्ती कराया गया है।अस्पताल में भर्ती शाहपुरा थाना इलाके के मुंडेती गांव की रामप्‍यारी गुर्जर ने आपबीती सुनाई है। उसने कहा कि ‘मेरे पिता के कोई बेटा नहीं है। जिसके कारण में उनके साथ ही रहकर उनकी सेवा करती हूं। मेरे ही परिवार के काका-बाबा मेरी पिता की जमीन को हड़पना चाहते हैं। इसके कारण यह हमें आए दिन परेशान करते रहते हैं। हमारे गांव से भी उन्‍होंने बहिष्‍कार करवा दिया है। जिसके कारण हमारा गांव वाले भी साथ नहीं देते है।’

आंदोलन की राह पर राजस्थान के बेरोजगार, उपेन यादव ने रखी ये 21 सूत्रीय मांगें
महिला ने बताया कि इसके खिलाफ हमने शाहपुरा थाने में मामला भी दर्ज करवाया लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई। रामप्यारी ने बताया कि ‘बुधवार को जब मैं खेत जा रही थी तभी रामभक्‍त गुर्जर, कालू गुर्जर और नन्‍दराम गुर्जर वहां पर आ गये। उन्होंने मुझे पर लाठियों से हमला कर दिया। इस दौरान मैं चिल्‍लाती रही मगर किसी भी गांव वाले ने मेरी मदद नहीं की।’
बेखौफ अपराध! सामूहिक दुष्कर्म के आरोपी को पकड़ने गई पुलिस को बनाया बंधक,महिला कॉन्स्टेबल की पिटाई, केस दर्ज
पीड़िता के पुत्र विकास गुर्जर ने कहा कि ‘उन्‍होंने मुझे भी पीटने की कोशिश की लेकिन मैं वहां से भाग निकला। इस दौरान मैने उनका विडियों भी बना डाला। बाद मैं उन्‍होने हमें हमारे घर में ही बन्‍द कर दिया। मैंने गांव वालों से मदद मांगी मगर किसी ने भी मदद नहीं की।

नाव में छेद है, लेकिन स्कूल के लिए जान जोखिम में डाल नदी पार कर रहे 7 गांवों के बच्चे



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed