हाइलाइट्स:

  • बूंदी एसीबी ने 3 हजार रूपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकडा भू-अभिलेख निरीक्षक को
  • जिले के घाट का बराना तहसील का है मामला
  • आरोपी पैसों का इतना बडा लालची निकला ,परिवादी के घर पहुंच गया था आरोपी

बूंदी, अर्जुन अरविंद
राजस्थान में सरकारी दफ्तरों में भ्रष्टाचार गजब का फैला हुआ हैं। आए दिन पैसों के लालची भ्रष्ट कर्मचारी व अधिकारी पकड में आ रहे हैं। परंतु रिश्वत लेने का क्रम टूट नहीं रहा। होते-होते काम को अटकाया जा रहा हैं। जरूरतमंदों को जानबूझकर परेशान किया जा रहा हैं। लेकिन लोग भी भ्रष्ट कार्मिकों को सबक सिखा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला प्रदेश के बूंदी जिले में शुक्रवार को सामने आया हैं। तय हुई 30 हजार रूपए की घूस में से 27 हजार रूपए देने के बावजूद काम को अटकाकर बैठे भू-अभिलेख निरीक्षक को रिश्वत की अंतिम किश्त लेनी भारी पड गई। घूस की अंतिम किश्त ने उसे आखिरकार बेईमानी के अंत सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। यह पूरा मामला बूंदी जिले की घाट का बराना तहसील का हैं।

फिल्मी अंदाज में पुलिस- गैंगस्टर बदमाशों के बीच मुठभेड़, उदयपुर से बाइक से फरार गुंडों का कॉप्स ने किया राजसमंद तक पीछा, पढ़े दिलचस्प घटनाक्रम

कृषि भूमि पर कब्जा दिलवाने की एवज में मांगी थी रिश्वत
बूंदी एसीबी के पुलिस उपाधीक्षक ज्ञानचंद मीणा के मुताबिक एसीबी ने ट्रैप की कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को कृषि भूमि पर कब्जा दिलवाने व अप्रार्थी को पाबंद करने की एवज में 3 हजार रूपए की रिश्वत लेते हुए भू-अभिलेख निरीक्षक श्योजीराम मीणा को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। एसीबी की टीम आरोपी से मामले को लेकर पूछताछ कर रह हैं। एसीबी की रिपोर्ट के मुताबिक परिवादी ने 1 जुलाई को बूंदी एसीबी को शिकायत दी थी। आरोपी ने परिवादी से पूर्व में 30 हजार रूपए घूस के मांगे थे। सौदा तय होने पर 29 जून को आरोपी को परिवादी ने 27 हजार रूपए एकमुश्त दिए। आरोपी पूरे 30 हजार रूपए करने के लिए बकाया घूस के 3 हजार रूपए लेने का बार-बार दबाव बना रहा था, 27 हजार रूपए पूर्व में देने के बावजूद जमीन का कब्जा नहीं दे रहा था । ना ही अप्रार्थी को पाबंद कर रहा था।

Rajasthan News: 641 ग्राम सोना.. 8 किलो चांदी.. जयपुर में चार घर, ACB के छापे में इंजीनियर के घर मिली करोड़ों की संपत्ति

ऐसे बिछाया गया जाल
इस बात से तंग आकर परिवादी ने आरोपी को उसके कृत्य की सजा दिलाने की ठानी । साथ ही एसीबी की शरण लेते हुए शुक्रवार को 3 हजार रूपए की घूस की अंतिम किश्त देते हुए आरोपी को ट्रैप करवाया। रिश्वत का आरोपी श्योजीराम मीणा पैसों का इतना बडा लालची निकला, कि वह परिवादी के घर स्टेशन रोड बाटम लेबल लाखेरी रिश्वत की अंतिम किश्त लेने पहुंच गया था। वहां पहले से ही बूंदी एसीबी ने उसे दबोचने के लिए अपना जाल बिछा रखा था, जिसमें वह फंसा। घूसकांड के आरोपी श्योजीराम मीणा को शनिवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

बैंक ऑफ बड़ौदा में पिस्तौल की नोक पर लूट, रिटायर्ड फौजी को डराने के लिये चलाई गोली, 1 घंटे में पकड़ा गया लुटेरा



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *