जयपुर
पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धु (Navjot Singh Sidhu) की पंजाब प्रदेश कांग्रेस समिति (PPCC) का अध्यक्ष बनाए जाने के फैसले के बाद राजस्थान की राजनीति (Rajasthan politics) में भी उबाल आ गया है। बताया जा रहा है कि सिद्धु को प्रदेश कांग्रेस (Congress) का अध्यक्ष बनाए जाने के बाद गहलोत खेमे (ashok gehlot ) में खलबली है। वहीं सूत्रों के अनुसार अब जल्द ही कांग्रेस पार्टी सचिन पायलट (sachin pilot ) को लेकर भी निर्णय ले सकती है। इसी बीच अब सीएम गहलोत की ओर से सोशल मीडिया (CM gehlot on Social media ) पर दिया बयान नए राजनीतिक मायने की ओर से इशारे कर रहे है। गहलोत ने सोमवार (Monday morning) सुबह सोशल मीडिया पर अपने बयान के जरिए नवजोत सिंह सिद्धु को बधाई दी। वहीं सचिन पायलट खेमे (Sachin Pilot Group) के प्रति नरमी के भी संकेत दे दिए हैं।

पंजाब के बाद राजस्थान में लागू होगा ‘सुलह फर्मूला’! पायलट खेमा उत्साहित तो गहलोत गुट की बढ़ी चिंता

ये लिखा सीएम गहलोत ने
सीएम गहलोत ने लिखा है कि “कांग्रेस की परम्परा रही है कि हर निर्णय से पहले सभी से राय-मशविरा होता है एवं सभी को अपनी बात रखने का मौका मिलता है। सबकी राय को ध्यान में रखकर जब एक बार पार्टी हाईकमान फैसला ले लेता है तब सभी कांग्रेसजन एकजुट होकर उसे स्वीकार करने की परम्परा को निभाते हैं। यही कांग्रेस की आज भी सबसे बड़ी ताकत है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी जी से मिलकर मीडिया के सामने पिछले सप्ताह ही घोषणा कर दी थी कि वह कांग्रेस अध्यक्षा के हर फैसले को स्वीकार करेंगे। कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया जी ने नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने की घोषणा कर दी है। सिद्धू को बधाई एवं शुभकामनाएं। उम्मीद है कि वे कांग्रेस पार्टी की परम्परा का निर्वहन भी करेंगे एवं सभी को साथ लेकर पार्टी की रीति-नीति को आगे बढ़ाने का कार्य करेंगे।”

जयपुर : हमदर्दी के नाम पर दरिंदगी, महिला को ले गया कश्मीर,किया दुष्कर्म , धर्म बदलवाया…

अजय माकन कर चुके हैं सीएम से मुलाकात
आपको बता दें कि पंजाब में चल रही खींचतान से पहले प्रदेश प्रभारी अजय माकन से मुलाकात कर चुके थे। सूत्रों की मानें, तो इस दौरान माकन और गहलोत के बीच पायलट खेमे को मंत्रिमण्डल में शामिल करने और राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर चर्चा हुई थी, लेकिन इसके बाद यह मामला ठंडे बस्ते में ही था। लेकिन पार्टी आलाकमान क्योंकि पार्टी में चल रही अदरूनी लड़ाई को खत्मं करना चाहती है। लिहाजा अब यह माना जा रहा है कि सीएम गहलोत सोनिया गांधी के निर्णय को अंतिम मानते हुए ही इस पर फैसला लेंगे।

माकन के ‘रीट्वीट’ में बड़ा राजनीतिक संदेश, हो रही है चर्चा
उल्लेखनीय है कि जहां गहलोत के इस ट्वीट की चर्चा हो रही है। वहीं एक दिन पहले एक ट्वीट को राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अजय माकन की ओर से रीट्वीट करने को बड़े राजनैतिक संदेश के तौर पर देखा गया। इस ट्वीट में कांग्रेस शासित प्रदेशों में मुख्यमंत्री रहे लोगों की आलोचना की गई थी। इसमें लिखा था कि चाहे अमरिंदर हो या गहलोत या फिर उससे पहले शीला दीक्षित या फिर कोई भी और, ये सीएम बनते ही समझ लेते हैं कि पार्टी इन्हीं की वजह से जीती है. माकन ने न सिर्फ इस ट्वीट को लैक किया बल्कि रीट्वीट भी किया है. माकन के इस कदम को राजस्थान की राजनीति में बड़े संदेश के तौर पर भी देखा जा रहा है।

Video : 40 साल से महिलाओं को रोज जाना पड़ रहा है शमशान, जानिए पानी की ये दर्दभरी कहानी



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed