हाइलाइट्स

  • कॉलेज में रैगिंग का वीडियो वायरल होने के बाद कार्रवाई
  • एंटी रैगिंग कमेटी की जांच हुई पूरी, 3 स्टूडेंट सस्पेंड
  • सुरक्षा गार्ड के सामने परेड हुई तो रैगिंग का सारा सच आया सामने
  • निलंबन पूरा होने पर माता-पिता को बुलाकर भरवाएं जाएंगे शपथ पत्र

कोटा। राजस्थान के कोटा मेडिकल काॅलेज में रैगिंग का सच सामने आ गया है। रैगिंग के वायरल वीडियो की जांच के बाद कॉलेज से 3 छात्रों को सस्पेंड कर दिया गया है। कॉलेज प्रशासन ने प्रतिबंधित रैगिंग को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की पालना की है। इसके तहत बुधवार को रैगिंग के विरूद्व कड़ा एक्शन लिया। काॅलेज में 19 जुलाई को सीनियर ने जूनियर स्टूडेंटस की रैगिंग ली थी। ऐसे में एंटी रैगिंग कमेटी ने मामले की अपनी जांच पूरी की। और बुधवार को तीन स्टूडेंटस को संस्पेंड कर दिया।
Kota News: कोटा मेडिकल कॉलेज में स्टूडेंटस की रैगिंग का वीडियो वायरल, मुर्गा बनाया, थप्पड़ जड़े!

रैगिंग के दोषी पाये गए छात्रों के निलंबन का समय एक माह रखा गया है। संस्पेंड किए तीनों स्टूडेंटस साल 2019 एमबीबीएस बैच के हैं। जो जूनियर स्टूडेंटस की रैगिंग लेने के जांच में दोषी मिले। तीन अन्य स्टूडेंटस को सीआर पद से हटा दिए। 23 जुलाई को नए सीआर की नियुक्ति की जाएगी। वहीं इस दिन काॅलेज प्रशासन सीनियर व जूनियर स्टूडेंटस का परिचय करवाएगा। 23 जुलाई को काॅलेज ऑडिटोरियम में सेमीनार रखी हैं। ताकि स्टूडेंटस आपस में एक दूसरे को जान सके।
गर्लफ्रेंड से छेड़छाड़ के विरोध पर युवक की हत्या

कोटा मेडिकल काॅलेज प्रिसिंपल डाॅ. विजय सरदाना ने रैगिंग लेने के दोषी मिले तीनों स्टूडेंटस के संस्पेंड की पुष्टी की है। स्टूडेंटस के निलंबन के आदेश भी जारी किए हैं। डाॅ. सरदाना ने कहा एक माह का निलंबन पूरा होने के बाद तीनों स्टूडेंटस के माता-पिता को काॅलेज बुलाया जाएगा। उनसे भविष्य के लिए शपथ पत्र भरवाया जाएगा। ताकि इस तरह की हरकत वे दोबारा ना करें। हालांकि जब स्टूडेंट का एडिमिशन काॅलेज में होता है तो अनुशासन में रहने को लेकर काॅलेज प्रशासन शपथ स्टूडेंटस से लेता है। लेकिन इसके बावजूद साल 2001 में प्रतिबंधित की गई रैगिंग ली गई। सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का उल्लंघन किया गया।
दूल्हे को लेकर भागी घोड़ी का वीडियो वायरल

संस्पेंडेड स्टूडेंटस इन सुविधाओं से रहेंगे वंचित
कोटा मेडिकल काॅलेज के एडिशनल प्रिंसिंपल डाॅ. देवेंद्र विजय ने एनबीटी से बात की। कहा कि संस्पेंड स्टूडेंटस को 6 माह तक हाॅस्टल और स्काॅलरशिप की सुविधा नहीं मिलेगी। वहीं एकेडमिक एक्टीविटी में तीनों स्टूडेंटस भाग नहीं ले पाएंगे।
Viral Video :कोटा में हाईट से हाई वोल्टेज ड्रामा

यह स्टूडेंटस हुए संस्पेंड, इनको हटाया
एडिशनल प्रिंसिंपल डाॅ. विजय के मुताबिक एंटी रैगिंग कमेटी ने साल 2019 एमबीबीएस बैच के जतिन, आदित्य सोमेटा और पवन खांडे को अपने जूनियर की रैगिंग लेने के दोषी पाया। वहीं रैगिंग रोकने में नाकाम साबित हुई और अपनी जिम्मेदारी ठीक से नहीं निभाने के यशवर्धन, प्रज्ञा और हिमानी को सीआर (क्लास रिप्रेजेंटेटिव) पद से हटाया गया।

स्टूडेंटस करते रहे मना नहीं ली रैगिंग
गौरतलब है कि 19 जुलाई को सोशल मीडिया पर कोटा मेडिकल काॅलेज में सीनियर ने जूनियर स्टूडेंटस की काॅलेज कैंपस में वाहन पार्किंग में रैगिंग ली। जूनियर स्टूडेंटस को मुर्गा बनाया। थप्पड़ मारे। इसका किसी ने उचाई से मोबाइल फोन में वीडियो रिकाॅर्ड किया। उसे बाद में सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। माजरा सामने आने पर कोटा कलेक्टर उज्जव राठौड ने कोटा मेडिकल काॅलेज प्रिंसिपल डाॅ. विजय सरदाना को जांच के आदेश दिए। काॅलेज एंटी रैगिंग कमेटी ने जांच शुरू की। लेकिन दोषी पाए गए स्टूडेंटस इस बात से मना करते रहे कि उन्होंने जूनियर की रैगिंग नहीं ली। लेकिन एक सुरक्षा गार्ड के सामने जब उनकी परेड करवाई तो सारा सच रैगिंग का सामने आ गया। रैगिंग लेने वाले स्टूडेंटस को सुरक्षा गार्ड ने पहचान लिया। इससे दूध का दूध पानी का पानी हो गया।

Viral Video :कोटा में हाईट से हाई वोल्टेज ड्रामा, पुलिस पकडने घर गई ,तो युवक छत पर चढा

rajasthan news live update - 2021-07-19T234339.203



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *