हाइलाइट्स:

  • राजस्थान में 15 प्रतिशत से ज्यादा ऑक्सिजन बेड की अभी भी ऑक्योपाइड
  • प्रदेश में कोरोना के सुखद आंकड़े आ रहे है सामने
  • लेकिन गंभीर रोगियों की संख्या अभी भी बरकरार

जयपुर
राजस्थान में कोरोना संक्रमण की रफ्तार में धीरे- धीरे कमी देखने को मिल रही है। रविवार को प्रदेश 1000 से भी कम (904) नए मामले सामने आए । कुल 23 दिनों में एक्टिव केसेज 2.12 लाख से 18,575 पर पहुंचे हैं। लेकिन बड़ी बात यह है कि कोरोना केसेज की तेजी से गिरावट के बावजूद राज्य में कुछ 2,203 आईसीयू और वेंटिलेटर बेड अभी भी कोविड -19 रोगियों के कब्जे में हैं। साथ ही इन मरीजों को अभी भी गंभीर देखभाल की जरूरत है। आपको बता दें कि जून के छह दिनों में लगभग 271 लोगों की कोविड से मृत्यु हो गई। ऐसे में अभी भी कोविड नियमों का पालन करने के साथ गंभीरता बरतने की आवश्यकता है।

राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण के 904 नये मामले, 23 दिनों में 2 लाख से ज्यादा एक्टिव केसेज अब 18 हजार के नजदीक पहुंचे

15 परसेंट बेड ऑक्योपाइड
सहयोगी अखबार टीओआई से मिली जानकारी के अनुसार राजस्थान में अभी 15.4 परसेंट ऑक्सीजन बेड कोविड रोगियों के लिए ऑक्योपाइड है। एक्सपटर्स का कहना है कि हालांकि जिस तेजी से कोविड रोगियों की ठीक होने का आंकड़ा बढ़ रहा है, उसे देखकर लग रहा है, इस अनुपात में भारी कमी आएगी। साथ ही सुखद आंकड़े हमारे सामने आएंगे। बता दें कि दूसरी लहर के प्रदेश में चरम पर होने के दौरान लगभग बेड़ो ऑक्योपेशन 100 परसेंट था। जयपुर समेत कई जिलों में लोगों को बेडों की किल्लत से जूझना पड़ रहा था।

राजस्थान अनलॉक पर कैबिनेट बैठक में चला देर रात तक मंथन, इन शर्तों के साथ आज जारी हो सकती है नई गाइडलाइन

सामान्य बेड में केवल 5 .5 प्रतिशत ऑक्य़ोपाइड
मिली जानकारी के अनुसार राजधानी जयपुर में वर्तमान में आरक्षित (ऑक्योपाइड) सामान्य बिस्तरों की संख्या का प्रतिशत केवल 5.5% पर ही है। लेकिन आईसीयू बेड पर अभी भी 30.1 प्रतिशत ही कब्जा है। इसके अलावा आधे से अधिक आरक्षित वेंटिलेटर बेड पर गंभीर लक्षणों वाले कोविड रोगियों का कब्जा है।

अलवर में वेंटिलेटर सपोर्ट वाले 54 बेड अभी भी भरे हुए
आपको बता दें कि राज्य में वेंटिलेटर सपोर्ट वाले बेड की संख्या 55 प्रतिशत है। जयपुर में 54 फीसदी, जोधपुर में 82 फीसदी, उदयपुर में 62 फीसदी, कोटा में 58 फीसदी है। अलवर में वेंटिलेटर सपोर्ट वाले 54 बेड अभी भी भरे पड़े हैं। इधर जयपुर के सबसे बड़े कोविड अस्पताल (आरयूएचएस ) में वेंटिलेटर सपोर्ट वाले सभी 128 आईसीयू बेड पूरी तरह से भरे हुए हैं। अस्पताल में वेंटिलेटर सपोर्ट वाला एकभी बेड अभी उपलब्ध नहीं है। अस्पताल के अधीक्षक डॉ अजीत सिंह ने बताया कि “हमारे पास 1,200 बिस्तर हैं और उनमें से 268 पर कोविड रोगियों का कब्जा है। 268 में से वेंटिलेटर सपोर्ट पर मरीजों की संख्या 128 है। वेंटिलेटर सपोर्ट वाले हमारे बेड अभी पूरी तरह से भरे हुए हैं। इसके अलावा निजी अस्पतालों में भी अभी कोविड रोगियों के होने की बात सामने आ रही है।

Rajasthan के इस आदिवासी क्षेत्र में Corona टीका लगाने पहुंची Team, महिला- पुरुष घऱ छोड़ भागे…..



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *