कोयले की कमी के चलते प्रदेश में बीते कई दिनों से गहराए बिजली संकट ने जहां विभाग व सरकार में खलबली बचा दी है। वहीं संकट से उबरने के लिए प्राथमिक तौर पर सीएम गहलोत ने आमजन सहित सरकारी महकमों से बिजली बचत की अपील की है।

चूरू. कोयले की कमी के चलते प्रदेश में बीते कई दिनों से गहराए बिजली संकट ने जहां विभाग व सरकार में खलबली बचा दी है। वहीं संकट से उबरने के लिए प्राथमिक तौर पर सीएम गहलोत ने आमजन सहित सरकारी महकमों से बिजली बचत की अपील की है। गुरूवार को हुई वीसी में सीएम ने अधिकारियों से सरकारी दफ्तरों में बिजली की बचत करने की हिदायत दी। मगर इसके उलट शुक्रवार को कई अधिकारियों व कार्मिकों के अपने दफ्तरों में नहीं होने के बाद भी पंखे, लाइटें व कम्प्यूटर चालू हालत में नजर आए। इसमें सबसे बड़ी बात तो ये दिखी कि बिजली संकट के चलते जिस उर्जा विभाग को सबसे ज्यादा एतिहात बरतनी थी, उसी के दफ्तरों में कार्मिकों की अनुपस्थिति में कमरों में लाइटें व पंखे चालू थे। इसी तरह पत्रिका ने जब शुक्रवार दोपहर को तीन बजे कलेक्ट्री मं स्थित कई दफ्तरों की पड़ताल की तो एडीएम के पीए, जिला शिक्षा अधिकारी व उप जिला शिक्षा अधिकारी सहित जोधपुर डिस्कॉम के एसई कार्यालय में कई अधिकारियों व कार्मिकों के कमरों में बिजली का दरूपयोग नजर आया। गौरतलब है कि बिजली की मांग व उपलब्धता में इस समय 4 हजार मेगावाट का बड़ा अंतर आया है। मुख्यमंत्री सहित उर्जा विभाग के आला अधिकारी बिजली संकट के समाधान में जुटे हैं।
अब बड़े शहरों में भी होगी बिजली कटौती
सूबे में गहराए बिजली संकट के चलते गांवों व कस्बों में 6 से 8 घ्ंाटे की बिजली कटौती की जा रही है। छोटे शहरों में भी बिजली कटौती शुरू कर दी गईहै। हालात जल्द नहीं सुधरे तो उर्जा विभाग बड़े शहरों में भी बिजली कटौती शुरू कर देगा।
विद्युत समस्या को लेकर सहायक अभियंता को ज्ञापन
सरदारशहर. ग्रामीणों ने विद्युत समस्या को लेकर समुन्द्र हुड्डा के नेतृत्व में शुक्रवार को भानीपुरा सहायक अभियंता का ज्ञापन सौपा। ग्रामीणों ने बताया कि अघोषित बिजली कटौती व कम वोल्टेज के चलते किसानों की मोटरें जल रही है। वर्तमान में फसल पकान पर है। बिजली नहीं मिलने से फसले चौपट हो रही है। यदि इसमें सुधार नहीं किया गया तो किसान बर्बाद हो जाएगा। ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि समस्या का शीघ्र निराकरण नहंी किया गया तो 12 अक्टूबर से सहायक अीिायंता कार्यालय, भानीपुरा के आगे प्रदर्शन व धरना दिया जाएगा। इस अवसर पर हरिसिंह सहजासर, बजरंगलाल हरदेसर, मोहनराम सिंधरिया, जितेंद्रसिंह सिसोदिया, जोगेंद्रसिंह ढाणी पांडूसर, पूसाराम, शयोपतराम आदि ग्रामीण उपस्थित थे।
इनका कहना है
&आज तो मैं अभी मंत्रीजी के साथ प्रशासन गांवों के संग शिविर में हूं, कल चूरू आकर कार्मिकों व अधिकारियों को बोल दूंगा, बिजली का दुरूपयोग ना करें।
डीसी श्योराण, कार्यवाहक अधीक्षण अभियंता, चूरू






Show More












Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *