हाइलाइट्स:

  • 7 दिन के NIA रिमांड पर आतंकी सलीम और काफिल
  • सिकंदराबाद एक्सप्रेस को बर्निंग ट्रेन बनाने की थी साजिश
  • बांका मदरसा ब्लास्ट मामले में भी होगी चारों आतंकियों से पूछताछ
  • क्या बांका मदरसा में तैयार किया जा रहा था केमिकल बम !

पटना।
सिकंदराबाद एक्सप्रेस को बर्निंग ट्रेन बनाने की साजिश रचने वाले इमरान और नासिर को NIA की टीम ने 30 जून को तेलंगाना के हैदराबाद से गिरफ्तार किया था। एनआईए की जांच टीम दोनों को लेकर शुक्रवार 2 जुलाई को पटना पहुंची और कोर्ट में पेश किया। इसके बाद NIA कोर्ट ने दोनों को 7 दिन के रिमांड पर भेज दिया।

आतंकी सलीम और काफिल भी NIA के 7 दिन के रिमांड पर
हैदराबाद से पकड़े गए इमरान और नाजिर के बाद दरभंगा रेलवे स्टेशन ब्लास्ट मामले में उत्तर प्रदेश के कैराना से भी दो आतंकी मोहम्मद सलीम और मोहम्मद काफिल को गिरफ्तार किया गया था। जिसे शनिवार को पटना एनआईए कोर्ट में पेश किया गया और अदालत ने इन दोनों आतंकियों को भी 10 जुलाई तक NIA के रिमांड पर भेज दिया। सूत्र बताते हैं कि मामले की जांच कर रही NIA और ATS की टीम द्वारा चारों आतंकियों से पटना में ही पूछताछ की जाएगी। बताया जा रहा है कि जांच एजेंसियों द्वारा चारों को आमने-सामने बिठाकर पूछताछ की जाएगी। इसके लिए एटीएस और एनआईए की टीम ने सवालों की लंबी लिस्ट भी तैयार कर ली है।

शनिवार को पूछताछ के दौरान नाजिर ने खोला मुंह
एनआईए द्वारा शुक्रवार को इमरान और नज़ीर को रिमांड पर लेने के बाद से ही पूछताछ शुरू कर दी थी। सूत्र बताते हैं कि पूछताछ के दौरान नाजिर ने बताया कि मंशा चलती ट्रेन में ब्लास्ट करने का था। उसने एनआईए की टीम को यह भी बताया कि ब्लास्ट के लिए शीशी में दो केमिकल रखे गए थे जिसके मिलने पर रिएक्शन होता और जोरदार धमाके के साथ बोगी के परखच्चे उड़ जाते, चलती ट्रेन में आग लग जाती। जिससे काफी लोगों की जान चली जाती। सूत्र ने बताया कि नाजीर ने खुलासा किया है कि यह महज एक ट्रायल था, जबकि प्लानिंग उससे कहीं ज्यादा की है।

बांका मदरसा ब्लास्ट मामले में भी होगी चारों आतंकियों से पूछताछ
दरभंगा रेलवे स्टेशन केमिकल ब्लास्ट के पहले बिहार के बांका जिले के एक मदरसा में हुए ब्लास्ट ने सुरक्षा एजेंसियों के कान खड़े कर दिए थे। आपको याद दिला दें कि इस ब्लास्ट में पूरा का पूरा मदरसा ही ढह गया था। बिहार पुलिस ने पहले सिलेंडर ब्लास्ट उसके बाद देसी बम ब्लास्ट बताया था। लेकिन बिहार पुलिस यह नहीं बता सकी थी कि धमाके के वक्त मदरसा में मौजूद 10 से 12 लोग आखिर कहां फरार हो गए। जिस चमचमाती नई कार से वे लोग फरार हुए थे वे कौन थे और कहां से आए थे। आपको बता दें कि इस धमाके में मदरसा के मौलवी की मौत हो गई थी और उसकी लाश मदरसे से थोड़ी दूर पर फेंकी हुई मिली थी। सूत्र बताते हैं कि एनआईए और एटीएस की टीम बांका मदरसा ब्लास्ट मामले में भी रिमांड पर लिए गए चारों आतंकियों से पूछताछ करेगी।

NBT

क्या बांका मदरसा में तैयार किया जा रहा था केमिकल बम !
बांका के मदरसा ब्लास्ट मामले में कौन सा विस्फोटक इस्तेमाल किया गया था इसकी जांच अभी तक की जा रही है। बता दें कि इस मामले की जांच भी अब एनआईए (NIA) और एटीएस (ATS) द्वारा की जा रही है। दरभंगा रेलवे स्टेशन पर हुए केमिकल ब्लास्ट के बाद बांका में मदरसा ब्लास्ट की अहमियत इसलिए भी बढ़ जाती है कि ब्लास्ट के वक्त मदरसा में मौजूद व्यक्तियों के विषय में अब तक कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। इसके अलावा मदरसा के आसपास रहने वाले लोगों की रहस्यमयी चुप्पी और चेहरे पर छाए खौफ को देखकर अंदाजा लगाना कठिन नहीं है कि मदरसा में कोई गहरी साजिश रची जा रही थी।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *