Nagaur.कृषि उपजमंडी व्यापार मंडल समिति ने दिया ज्ञापन

नागौर. व्यापारियों को दालों के संदर्भ में स्टॉक सीमित करने एवं निर्धारित अवधि में इसकी ऑनलाइन इंट्री कराने के मामले को लेकर व्यापारिक वर्ग में असंतोष की स्थिति बन गई है। व्यापारियों का कहना है कि यह सरकार किसानों एवं व्यापारियों का नुकसान करने पर आमादा लगती है। कृषि उपजमंडी व्यापार मंडल की ओर से दालों के स्टॉक संबंधी आदेशों लेकर असंतोष जताते हुए इस पर विरोध जताया गया। मंडल की ओर से इस संबंध में शुक्रवार के उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय केबिनेट मंत्री पीयूष गोयल को संबोधित ज्ञापन उपखंड अधिकारी को सौंपा गया। इसमें अवगत कराया गया कि व्यापारी दलहन का निस्तारण करते हए 30 दिवस में अपनी स्टॉक सीमा में आने व चने का बाजार में विक्रय करने की स्थिति में अधिकतम व निम्न मूल्य पर भी बाजार में चने का खरीददार नहीं मिलेगा । इससे व्यापारी को घाटा लगेगा। इस अध्यादेश अनुसार वांछित स्टॉक में आने के लिये ओने – पौने दामों में घाटा खाकर स्टॉक सीमा में आना होगा । बाजार में स्टॉक सीमा में रहने के कारण दो माह बाद उद्योग को वांछित दलहन नहीं मिलने की स्थिति में उद्योग बंद करना पड़ेगा या फिर कम क्षमता में चलाना पड़ेगा। टर्नओवर कमजोर होने के कारण बैंक लिमिट में बाधा आएगी। टर्नओवर पूंजी कम होने के कारण बैंक की निर्धारित किस्ते भी व्यापारीनहीं चुका पाएगा। रोजगार भी कम हो जाएगा। इससे बाजार में अनिश्चितता बढ़ेगी। नुकसान व्यापारी व उपभोक्ता को ही होगा। ज्ञापन के दौरान कृषि मण्डी व्यापार मण्डल समिति अध्यक्ष मूलचन्द भाटी, सचिव नितिन मित्तल आदि थे।
विद्यालय विकास समिति में मुद्दों पर चर्चा
नागौर. महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय, इंग्लिश मीडियम, बख्तासागर की विद्यालय विकास समिति की बैठक शुक्रवार को हुई। इसमें बरसात के दौरान स्कूल की चारदीवारी गिरने व अन्य के क्षतिग्रस्त होने पर चर्चा हुई। चुग्गा दाना,आटा,किडीनगरा आदि डालने वालों को पाबंद करने का प्रस्ताव पारित किया गया। इस बारे में उच्च अधिकारियों को अवगत करवाने का निर्णय एवं इस चारदीवारी की मरम्मत के लिए प्रस्ताव बनाकर भेजने का भी निर्णय लिया गया। प्रधानाचार्य मदनलाल शर्मा ने बताया कि रिक्त सीटों पर चल रही प्रवेश प्रक्रिया व प्रवेश के लिए कक्षावार प्राप्त आवेदन पत्रों व लॉटरी के बारे में चर्चा की गई। बैठक में समिति के सचिव बजरंग साँखला, समिति के सदस्य लक्ष्मीकांत देवल,देवीदत्त सारस्वत,कमल सोनी,प्रमिल नाहटा,जगदीश मारुका,विमलेश व्यास,रूपसिंह साँखला सहित स्टाफ के संगीता चौधरी,मीनाक्षी अरोड़ा,सोनिया,रविन्द्र डिडेल,विजयलक्ष्मी पारीक,शिकुनराम चौधरी,नाथूराम चोटिया,मुकेश शर्मा,रेणु,सुरेंद्र मिर्धा आदि मौजूद थे।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *