हाइलाइट्स

  • जांच में इसके लिए प्रथमदृष्टया एएनएम नेहा खान व डॉ. आफरीन जोहरा को दोषी मानते हुए नामजद किया गया था।
  • एएनएम नेहा खान पर आरोप है कि उन्‍होंने 29 डोज बिना मरीजों को लगाए कचरे में फेंक दी थी
  • डीएम ने इस पूरे मामले में संज्ञान लिया गया था जिसके बाद संविदा कर्मी नेहा खान को निलंबित कर दिया था

अजय कुमार, अलीगढ़
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कोरोना वैक्सीन की 29 डोज लाभार्थियों को न लगाकर दवा सहित सिरिंज फेंकने की आरोपी एएनएम निहा खान की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी है। यह आदेश न्यायमूर्ति राहुल चतुर्वेदी ने याची के अधिवक्ता और सरकार की तरफ से अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल व अपर शासकीय अधिवक्ता एके संड को सुनकर दिया गया है।

मामले के तथ्यों के अनुसार निहा खान के विरुद्ध अलीगढ़ की कोतवाली सिविल लाइंस थाने में डॉ. दुर्गेश सिंह ने आईपीसी की धारा 203, 176, 465, 427, 120बी, सार्वजनिक संपत्ति क्षति निवारण अधिनियम की धारा 3/4 और महामारी अधिनियम की धारा 3 के तहत एफआईआर दर्ज कराई गई थी। जिसमें आरोप लगाया गया कि कोविड पोर्टल वैक्सीनेशन के दौरान 29 डोज भरी सिरिंज कूड़ेदान के कचरे में मिली थी। जिसकी आधार कार्ड के साथ एंट्री भी की गई थी। जांच में पाया गया कि इसके लिए प्रथमदृष्टया एएनएम नेहा खान व डॉ. आफरीन जोहरा को दोषी मानते हुए नामजद किया गया था।

जमालपुर स्वास्थ्य केंद्र में 22 मई को वैक्सीन एवं कोल्ड चैन मैनेजर ने निरीक्षण किया था। इसमें 29 ऐसी सिरिंज मिलीं, जिनमें वैक्सीन भरी हुई थी और हब कटा था। जांच में पता चला कि वायल से वैक्सीन भरने के बाद भी लाभार्थियों को टीके से वंचित रखा गया।

संविदा पर नियुक्‍त एएनएम निहा खान को 29 टीके लाभार्थी को न लगाकर कचरे में फेंकने का दोषी माना गया। डीएम ने इस पूरे मामले में संज्ञान लिया गया था जिसके बाद संविदा कर्मी नेहा खान को निलंबित कर दिया गया और उसके बाद सेवा समाप्त कर दी गई।

मुकदमा दर्ज करने के बाद पुलिस एएनएम की तलाश में जुट गई। उसके दस्तावेजों में कासगंज का पता दर्ज था। लेकिन, पुलिस कासगंज पहुंची तो पता गलत निकला। इसके बाद एटा की जानकारी मिली। वहां भी एएनएम नहीं मिली। इसके बाद पुलिस लखनऊ व प्रयागराज भी गई। लेकिन, कुछ पता नहीं चला। हालांकि अब पुलिस को कुछ सुराग मिले हैं।

डस्‍टबिन में मिली थीं वैक्‍सीन



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *